sanjeevani

Just another Jagranjunction Blogs weblog

31 Posts

11 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 17460 postid : 724770

मुझे माफ कर दो

Posted On: 30 Mar, 2014 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मुझे माफ कर दो

मुझे माफ कर दो प्रिय मुझसे
अनजाने में भूल हों गयी,
तेरी बातें मान  सकी ना ,
गलती ये अब शूल हों गयी |
जब तक तुम थे साथ
सदा ये लगा कहाँ जाओगे तज कर ,
सदा  ठिठोली कि थी मैंने ,
हंस कर, रो कर , गा कर , सज कर |
पर इस पल भर कि दूरी ने ,
मुझको ये एहसास कराया ,
तुम बिन कुछ मैं नहीं
कि जैसे नहीं प्राण बिन कोई काया |
बिन तेरे ऐ प्रियतम मेरे ,
जीवन नगरी धूल हों गयी ,
मुझे माफ कर दो प्रिय मुझसे ,
अनजाने में भूल हों गयी |
मैं तो तेरी ही पगली हूँ ,
तेरी खट्टी तेरी मीठी ,
तुझसे अलग नहीं मैं कुछ भी ,
मैं  बस तेरी सखी सहेली ,
तू ही हर रिश्ते में मेरे ,
तू धडकन तू सांसों में ,
बिन तेरे स्पर्श हमारी ,
काया भी बेनूर हों गयी ,
मुझे माफ कर दो प्रिय मुझसे ,
अनजाने में भूल हों गयी |


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

March 30, 2014

सुन्दर भाव.सुन्दर अभिव्यक्ति………….


topic of the week



latest from jagran