sanjeevani

Just another Jagranjunction Blogs weblog

31 Posts

11 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 17460 postid : 739144

फिर नयी शुरुआत की है |

Posted On: 8 May, 2014 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

फिर नए उत्साह से मैंने नयी शुरुआत की है ,
आज के इस अंशुमान ने नयी प्रभात की है |

है जगे कुछ स्वप्न नयनो के तले जो सो रहे थे ,
और निद्रा की गली में बेवजह ही रो रहे थे ,
आज फिर मेरे ह्रदय ने प्रेम की बरसात की है ,
फिर नयी शुरुआत की है |

पर कटे पंछी हुए थे आसमा को तक रहे थे ,
और अपने भाग्य को हम रोज ताने कस रहे थे ,
आज गुरु के शब्द से मैंने नयी उड़ान ली है ,
फिर नयी शुरुआत की है |

कौन कहता है मुझे अब रोक लेगा विश्व सारा ,
मैं समंदर बन गयी हूँ बांध है और न किनारा ,
आज फिर मैंने मेरी पायल से एक झंकार की है ,
फिर नयी शुरुआत की है |

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran