sanjeevani

Just another Jagranjunction Blogs weblog

31 Posts

11 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 17460 postid : 758051

वो नयी दुल्हन

Posted On: 23 Jun, 2014 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

वो नयी दुल्हन |

अपने घुटनों को
अपने पेट में छिपाए ,
सर अपनी छाती से लगाये ,
एक पुराने से कमरे में ,
नए कपड़ों में सजी
नए भावों से बंधी ,
वो
कभी मुस्कुराती ,
कभी शर्माती ,
कभी किसी के आने पर और
सिमट जाती ,
कभी जीवन के इस बदलाव के भय से ,
अपने पिता की याद में गुम हो जाती
वो नयी दुल्हन |
कल अपना आँगन छोड़ते ही
अपना लिया मेरा आँगन ,
अपने कमरे की साज सज्जा
से जयादा उसे भाई ,
मेरे कमरे की अस्तव्यस्तता ,
एक रात ही तो गुज़री थी ,
मैं समझ ही न सका
कौन है वो , कैसी है वो ,
क्या भाता है उसे ,
कौन रिझाता है उसे ,
पर अगले दिन सुबह
मेरी पसंद का नाश्ता बनाती ,
वो नयी दुल्हन |

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran